जिंदगी में आगे बढ़ना चाहतें हैं तो ये कहानी जरूर पढ़े.

जिंदगी में आगे कैसे बढ़े..

नमस्कार दोस्तों आशा करते आपलोग अच्छे होंगे और अपनी जिंदगी का खुल जी रहें होंगे.


आज की कहानी आपको ये सिखाएगी की जब जिंदगी में ब्रेक लग जाये, ग्रोथ होना बंद हो जाये, आपका आगे बढ़ना बंद हो जाये तो क्या किया जाये.


एक व्यापारी को यहीं समस्या थी और वह एक गुरु जी पर बहुत विश्वास था,वह उसको बहुत मानता था उनकी सारी बात मानता था और वह उनके आश्रम गया और गुरू जी से पूछा कि  मुझे बताइये की जिंदगी में आगे कैसे बड़े, जिंदगी में ग्रोथ नहीं हो रहा हैं ऐसा लग रहा हैं की सब कुछ ठीक चल रहा हैं लेकिन बहुत अच्छा नहीं चल रहा हैं |

व्यापारी को बहुत विश्वास था गुरु जी पर,

गुरूजी जी व्यापारी से बोलें, एक काम करो कल सुबह आना आश्रम के पीछे नदी के पास आना, तुम्हारे सवाल का जवाब मिल जायेगा..


व्यापारी आश्रम से घर आया और सोच रहा था की ऐसा क्या हैं जो कल सुबह ही बुलाया हैं गुरुजी ने |

और व्यापारी अगले सुबह वहा पहुंच जाता हैं वह देखता हैं की गुरुजी ध्यान में लीन थे, नदी का साफ पानी बहता चला जा रहा था बहुत सुशील और निर्मला सा माहौल था, लेकिन व्यापारी को अपने सावल का जवाब चाहिए था,


बाबा जी की तपस्या ख़त्म हुई और उन्होंने व्यापरी को बुलाया और बोलें अब तुम्हे तुम्हारे सवाल का जवाब मिल जायेगा,नदी किनारे बाल्टी और मग रखा था|

गुरूजी जी व्यापारी से बोलें एक काम करो इस बाल्टी में मग से नदी का साफ पानी भरते चले जाओ जबतक मैं ना कहु तब तक रुकना मत,व्यापारी को लगा की बाल्टी भर जाएगी तो खुद ही मना कर देंगे,


 वह मग उठाया और नदी का साफ पानी भरने लगा थोड़ी देर में बाल्टी भर गई लेकिन गुरूजी जी कुछ बोलें, वह साफ पानी भरता चला गया थोड़ी देर ऐसा चलता रहा,लेकिन 15-20 मिनट के बाद व्यपारी बोला माफ़ कीजियेगा लेकिन मुझे मेरे सवाल का जवाब नहीं मिला |

गुरूजी ने कहा की तुम्हारे सवाल का जवाब ही तो देने की कोशिश कर कर रहा हूं लेकिन तुम समझ ही नहीं पा रहें हो,

एक बात बताओ जो नदी का साफ पानी बहकर आ रहा हैं वो उस बाल्टी में टिक क्यों नहीं पा रहा हैं, व्यापारी ने कहा क्योंकि बाल्टी पहले से ही भरी हुई हैं, पहले से ही पानी भरा हुआ हैं नया पानी कहा से आएगा,

गुरूजी ने कहा बस यहीं बाल्टी तुम्हारा दीमाग हैं जो पहले से ही भरा हुआ हैं, पहले से हमारे पास अपने विचार हैं, हमें लगता हैं की हमने जो सिख लिया वो बेस्ट हैं हमें और अब नया नहीं सिखने की जरुरत नहीं, हमें लगता हैं हमें सबकुछ पता हैं और हमें कुछ नया नहीं सीखना चाहते, हमारा दिमाग हमें अलाऊ ही नहु करता कुछ नया करने के लिए क्योंकि हमारा दीमाग पहले से भरा हुआ हैं,|

बाल्टी में नदी का साफ पानी आएगा वो तब आएगा जब बाल्टी में का पुराना पानी खाली होगा अगर ये भरा रहेगा तो ये रुक नहीं पायेगा आकर चला जायेगा,


"ये छोटी सी कहानी हमें बताती हैं अगर हमें जिंदगी में आगे बढ़ना हैं तो हमें हमेशा सीखना रहना चाहिए तब शायद कुछ नया हो पाए "



Previous
Next Post »