आखिर रणजीत डिसले कैसे बने ग्लोबल टीचर ||पढ़े पूरी जानकारी ||हिन्दी मे ||

स्कूल टीचर से ग्लोबल टीचर बनने तक का सफर. 

भारत मे महाराष्ट्र राज्य  के एक सरकारी स्कूल के अध्यापक रणजीत दिसले को ग्लोबल टीचर पुरस्कार से सम्मानित किया गया हैं | रणजीत ने सरकारी  स्कूल मे QR कोड से  पढ़ाई और लड़कियों की शिक्षा मे अहम् योगदान दिया हैं. 

ग्लोबल टीचर अवार्ड मे पूरी दुनिया के 140 देशो के 12 हजार से ज्यादा टीचर भाग लिए थे | जिसमे 12 हजार टीचरो मे से 10 फाइनलिस्ट चुने गए |

Ranjit disale
Ranjit Disale -Teacher

क्यों रणजीत दिसले को ग्लोबल टीचर प्राइज के लिए चुना गया? 

रणजीत डिसले (ranjit disale) को गर्ल्स एजुकेशन को बढ़ावा देने और भारत मे QR कोड बेस्ड (based) किताबों के अभियान को बढ़ाने के लिए ग्लोबल टीचर प्राइज के लिए चुना गया. 

उन्हे इस प्राइज मे 7 करोड़ मिले हैं और उन्होंने यह भी कहा की उनकी जीती हुई राशि मे से आधी राशि उपविजेता मे दे दी जाय |

Ranjit disale
Image Source -instagram 

इससे पहले भी जीत चुके कई अंतराष्ट्रीय पुरस्कार. 

पिछले बीते  सालो मे रणजीत ने 12 अन्तर्राष्ट्रीय और 7 राष्ट्रीय पुरस्कार जीते हैं | इसके अलवा 12 एजुकेशन पेटेंट उनके नाम पर दर्ज  हैं |


कैसे आईडिया मिला की QR कोड से पढ़ाने का. 

रणजीत ने सरकारी स्कूल मे QR कोड की से पढ़ाई और लड़कियों की शिक्षा मे अहम योगदान दिया. 

Ranjit disale in award  function
Ranjit disale -img source -instagram

वो चाहते थे की छात्रों के लिए डिजिटल कंटेंट की पहुंच सभी जगह होना चाहिए वो चाहे घर पर हो या कही और इसी को ध्यान मे रखते  हुए उन्होंने बच्चों के घरों  तक पढ़ाई को पहुंचाने का रास्ता खोजा

एक बार उन्होंने एक दुकानदार को QR कोड को स्कैन कर रहा था उन्हें ये देख कर बहुत जिज्ञासा हुई की यह काम कैसे काम करता हैं 


फिर उन्होंने वैसे ही कोड अपने छात्रों के लिए बनाने की कोशिश की और उन्होंने QR कोड मे पूरा कंटेंट डिजिटल तरीके से स्टोर किया / वह गद्य पाठ को वीडियो फॉर्मेट मे बनाते थे और कविता मे हैं तो उसका ऑडियो फॉर्मेट मे रखते थे |


दुनिया की जानी मानी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft ) ने भी उनके स्कूलों से इस अविष्कार के बारे मे जाना और उन्होंने इसे दुनिया के सबसे बेहतरीन 300  अविष्कार मे शामिल कर दिया, उनके अविष्कार को महराष्ट्र सरकार ने भी ध्यान दिया हैं |

Ranjit disale picture
Ranjit disale -teacher
इन सब के बाद भी रणजीत डिसले कहते की अब यही नहीं रुकने वाले हैं उन्होंने छात्रों की शैक्षिक चेतना के  विस्तार के लिए उन्होंने वर्चुअल फील्ड ट्रिप नाम से एक योजना शुरू की हैं | इस योजना के तहत वह अलग अलग देशों के छात्रों के साथ बातचित करते हैं,  वो बताते हैं की उनके छात्र दूसरे छात्रों के साथ बिना किसी झिझक के अंग्रेजी मे बातचीत करते हैं, 


आज के समय मे हम इतना स्वार्थी हो चुके हैं की हमें अपने आप से फुर्सत ही नहीं हैं की दुसरो के बारे सोचे. 

चलो ठीक हैं मैं जनता हूं की  आपके पास समय नहीं हैं लेकिन अगर आप कुछ समाज के लिए कुछ नहीं कर सकते हैं लेकिन जो समाज के लिए कुछ कर रहें उनका साथ हमें जरूर देना चाहिए क्योंकि अपने बारे मे तो जानवर भी सोचता और हम तो इंसान हैं. 


आपका बहोत बहोत धन्यवाद  हमारी ये पोस्ट पढ़ने के लिए, अगर आपको ये पोस्ट पसंद आयी हो तो इसे शेयर जरूर करें..😍 

जय हिन्द जय भारत 🇮🇳

Previous
Next Post »

1 comments:

Click here for comments
Unknown
admin
January 11, 2021 at 3:42 AM ×

Nice te acher

Congrats bro Unknown you got PERTAMAX...! hehehehe...
Reply
avatar